राजस्थान कर बोर्ड, अजमेर में आपका स्वागत है

राजस्थान विक्रय कर अधिकरण की स्थापना दिनांक 01.05.1985 विक्रय कर से सम्बन्धित लम्बित प्रकरणों (द्वितीय अपील) का षीध्र निपटारा करने व निर्णयों में एकरूपता रखने के उद्‌देद्गय से की गई थी ताकि गतिषील विक्रय कर अधिनियम व नियमों की सुसंगत व्याखया की जा सके। अधिकरण के गठन से पूर्व विक्रय कर से संबंधित प्रकरणों में द्वितीय अपील के प्रावधान नहीं थे और उपायुक्त (अपील्स) वाणिज्यिक कर विभाग के प्रथम अपील आदेष के विरूद्ध केवल मात्र निगरानी ही राजस्व मण्डल में प्रस्तुत हो सकती थी। दिनांक 01.10.1995 से राजस्थान विक्रय कर अधिकरण का नाम परिवर्तन कर 'राजस्थान कर बोर्ड' कर दिया गया।

મુખ્ય લિંક પર જાઓ